क्या आपका मीट बर्गर इतने मासूम जानवरों के कष्ट का कारण बनने के लायक है? क्या आप जानते हैं कि बर्गर की बढ़ती लोकप्रियता, माँस के बढ़ती माँग में सहयोगी है, ताकि माँसाहारी भोजन तैयार किया जा सके? जब आप अपने भोजन का आनंद ले रहे होते हैं, तो क्या आपने कभी सोचा है कि आपका बर्गर कैसे बनता है? स्वाद के इस एक पल के लिए प्रतिदिन कितने जानवरों की बलि दी जाती है?

हमारे लालच के लिए हर साल अरबों जानवरों का शोषण और वध किया जाता है। हम मरे हुए जानवरों के शरीर के अंगों का सेवन कर रहे हैं। हमने सुंदर एवं संवेदनशील जीवों का जीवन छीन लिया है। पशुपालन फॉर्म्स में, पशुओं को नियमित रूप से विकृत और अत्यधिक कारावास के अधीन किया जाता है।

मानव उपभोक्ताओं के लाभ के लिए उन्हें आनुवंशिक रूप से हेरफेर किया जाता है। हमने उन्हें अपना सामान्य जीवन जीने की आजादी से वंचित कर दिया है। मांस और डेयरी उत्पादों की हमारी मांग इन क्रूर उद्योगों को बढ़ावा दे रही है। पशुओं की मदद करने का सबसे अच्छा तरीका है कि हम उन्हें न खाएं। माँस का त्याग भी सबसे अच्छी चीजों में से एक है जो आप अपने स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए कर सकते हैं। दयालु विकल्प बनाएं। वीगन (निरवद्य) बनकर इस क्रूरता को खत्म करने में मदद करें।

अधिक जानकारी के लिए वीडियो देखें:
bit.ly/_ypoultryiscruel
bit.ly/broiler_truth
bit.ly/Ignorance_Bliss

#yvcare #yvcarein #vegan #veganism #veganvaad #veganhindi #veganIndia #vegano #veganlifestyle #veganfood #plantbased #govegan #meatismurder #endspeciesism #eathealthy #animalequality #stopanimalabuse #animalprotection #crueltyfree #stopanimalcruelty #bekindtoeverykind #choosecompassion

साभार

Leave a Reply

Your email address will not be published.