समर प्रताप : इस तरह वो फिर हैक करेगा.. आएगा तो वही को लायेगा कौन ????

सुबह की कॉफी निपटाते हुवे चर्चाएं आजकल राजनीति की ही होती है।
हर जाति बीजेपी से नाराजगी दिखा रही है सवर्णो के ईगो हर्ट हो रहे है हमे कम हिस्सेदारी मिल रही है या हमारा सम्मान नही है।
मूलनिवासियों को सविधान बदलने का ही डर सता रहा है।
क्षत्रिय दलों के अलग अलग जाति के परेशान नागरिक अलग से नाराजगी दिखा रहे है।
इतने सब के बावजूद बीजेपी जीत रही है ये सब विरोधी भी मान रहे है।

 

वे हर जगह हर स्तर पर विरोध कर रहे कोई वकील के नाम और कोई फोजी के नाम पर तो कोई किसान के नाम पर तो कोई जाति के नाम पर,फिर भी मान रहे है कि आयेगा तो वही।
इतने विरोध के बावजूद खुद विरोधी ही मान रहे है आएगा तो वही तो आखिर क्यो आयेगा वही????
आप अपने विरोध से नतीजे क्यो नही बदल पा रहे????
आएगा तो वही को लायेगा कौन ????
कौन है वो जो इन सबके बीच से धर्म,जातिवाद और क्षेत्रवाद के बीच से उसे ही लाना चाहते है कौन है वो लोग????
विकास,राष्ट्रवाद, धर्म और देश नही झुकने दूँगा पसन्द करने वाले लोग लाएंगे उसे।

इसके पीछे छोटी छोटी कहानीया होती है मैंने उन्हें बताया कि हमारे कुनबे मे एक घर ऐसा भी है जो हम अगर कांग्रेस का वोट दे तो वो बीजेपी का ही देंगे।और हम बीजेपी का देंगे तो वो कांग्रेस का देंगे।
लेकिन होता ये है कि इंजीनियरिंग के नाम पर प्राईवेट सेक्टर में 15 और 20 हजार में शोषण करवाने वाले लड़के को बिना पैसे हरियाणा पुलिस में नोकरी मिल जाती है।
और छोटे वाला लगने की तैयारी में जुट जाता है तो उनके सब विरोध खत्म हो जाते है और वे भी घर पर बीजेपी का झंडा लगा देते है।
ये एक रोजगार का कारण मात्र है।

ऐसे बहुत से कारण है जिससे आएगा तो वही का नारा लगता है।
क्योकि हर इंसान के अलग मुद्दे है किसी के लिये राम मंदिर ही मुद्दा था किसी के लिये धारा 370 मुद्दा था।
किसी समाज मे तीन तलाक का मुद्दा था लोग नाराज है लेकिन स्त्री वोट दे आयेगीं।
किसान नाराज दिखाए जाएंगे लेकिन जिनके खाते में 6000 किसान निधि के आ रहे है वो वोट दे आएंगे।
किसी गरीब को मुद्रा लोन मिला होगा वो मन मे आएगा तो वही बोलते हुवे वोट दे आएगा।

किसी को गैस सिलेंडर मिला होगा,किसी के बच्चे का इलाज इस सरकार की हेल्थ पॉलसी से हो गया होगा।
किसी को प्रधानमंत्री आवास योजना से घर मिला होगा।
किसी को दूर जंगल मे देहात में शौचालय मिल गया होगा।
किसी को हाइवे पर दौड़ती अपनी कार में मजा आया होगा।
कोई ट्रेनों में थकावट भरी लम्बी यात्रा को वन्देभारत ट्रेन में आधे समय मे पूरी करके मन ही मन आएगा तो वही बोल रहा होगा।
ऐसे तमाम मुद्दे है ऐसे ऐसे काम है जो इस सरकार ने किये है जिनका असर आगामी वर्षो में दिखेंगे।
और इन्ही कामो की कद्र करने वाले हर धर्म जाति के लोग धीरे से आएगा तो वही के नाम पर वोट दे आते है।
और आप फिर बोलते है कि EVM हैक हो गई होगी।
उसने लोगो के दिल हैक कर रखे है कैसे निकालोगे उनमे से।
वो फिर हैक करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *